Tuesday, May 25, 2021

मुक्तक

हर शख्स धरा पर तुमको,कद्रदान मिले।
तुम्हें तुम्हारे ख्वाबों का आसमान मिले।
खुशियों का अंबार सजे घर-बार तुम्हारे।
रब तुम पर ताउम्र सदा मेहरबान मिले।

No comments:

Post a Comment