Thursday, January 8, 2015

मुक्तक



             मुक्तक

मान और सम्मान भरा था कितना आदर करते थे 
गुस्सा हैं या खुश बाबू जी हम भावों को पढ़ते थे 
अब बाबू जी हमको अपने बच्चों से डर लगता है 
आंख दिखाते हैं ये हमको हम आंखों से डरते थे  



भीतर -भीतर छुप-छुप कर ही रो लेते हैं बाबू जी 
अपने दिल की व्यथा कथा को कब कहते हैं बाबूजी 
वृक्ष सरीखे हैं वे अपना फ़र्ज़ नहीँ भूला करते 
कड़ी धूप में तप  कर भी छाया देते हैं बाबू जी 


तिनका-तिनका जोड़-जोड़ कर घर बनवाते बाबू जी 
अपनी ख्वाहिश टाल-टाल कर धन भर लाते बाबू जी 
जिसे बुढ़ापे की लाठी कह कर इतराया करते थे 
उस लाठी के कारण अब वृद्धाश्रम जाते बाबू जी 

3 comments:

  1. ऋतु जी
    बहुत संवेदनात्मक मुक्तक हैं
    नमन

    ReplyDelete
  2. OnlineGatha One Stop Publishing platform in India, Publish online books, ISBN for self publisher, print on demand, online book selling, send abstract today: http://goo.gl/4ELv7C

    ReplyDelete
  3. OnlineGatha One Stop Publishing platform in India, Publish online books, ISBN for self publisher, print on demand, online book selling, send abstract today: http://goo.gl/4ELv7C

    ReplyDelete