Monday, September 8, 2014

मुक्तक

                  मुक्तक 


जीवन की समस्या के  निवारण नहीं होते
हर एक भावना के उचारण नहीं होते
पल -पल  को उत्सव की तरह जीना चाहिए
खुशियों को मनाने के कारण नहीं होते



कांटों से हार जाए ,वो  गुलाब नहीं है
हो सादगी से दूर वो  शबाब नहीं है
दुनिया में बहुत होंगे  ताजो -तख़्त शहंशाह
पर आपका जहान में जवाब नहीं है


प्यार है तो फिर  सहना  होगा
सुख हो या दुःख रहना  होगा
नदी को गर बनना है सागर
मुश्किल पथ पर बहना होगा


दो घड़ी को ये बिगड़ लेगा, संवर जाएगा
प्यार का घट अभी रीता है तो भर जाएगा
रात हो दिन हो अंधेरा हो या उजाला हो
वक्त फिर वक़्त है ,आखिर ये गुजर जाएगा
 

No comments:

Post a Comment