Wednesday, June 3, 2009

मुक्तक

मन के मरुथल में भी अब के बरसात हो
आग हैं हर तरफ़ प्यार की बात हो
भर सके रोशनी इस जहां में सदा
इस तरह की कोई चांदनी रात हो

मौत सच हैं मगर ज़िंदगी देखिये
आग मत देखिये रोशनी देखिये
चांद को देखना हो अगर आपको
दाग मत देखिये चांदनी देखिये

1 comment:

  1. daag mat dekhiye,chaandni dekhiye....
    atyant umda muktak....
    abhinandan aapka !

    ReplyDelete