Tuesday, June 9, 2009

बाल मजदूर







बाल मजदूर

जब से देखा है
उसकी आखों में पथराये सपनों को
उसकी धड़कन में बसे अपनों को
तब से मेरे एहसास मेरा मज़ाक उडाने लगे हैं
सारी दुनिया के खि्लौनें मुझे मुंह चिढ़ाने लगे हैं

जब भी किसी मां की छाती में भूख से दूध नही उतरता
बाबा के खेत में जुत जाने पर भी बच्चों का पेट नहीं  भरता
जवां बेटी के हाथों में हल्दी सजानी हो
घर के नन्हें मुन्नों की भूख मिटानी हो
तब वो मां अपने नैन दुलारे को
बाबा अपने प्रिय सहारे को
खुशी- खुशी भेज दिया करते हैं ऎसी जगह
जहां उनका सलोना
स्वयं  बन जाता है खिलौना
और चाबी भरते ही
कभी बर्तन मलता कभी कू्ड़ा बीनता
कभी चाय पिलाता कभी रोटी खिलाता है
और कभी रंग बिरंगे गुब्बारों के साथ बेच देता है
अपने हसीन सपने
 कार में बैठे दूसरे बच्चों को

जब कभी भूल कर उसके सपने में आ जाती हैं परियां
तो मांग लेता है अपने छोटे भाई बहनों के लिए
अपनी सबसे मनपसंद चीज़
 जिसका वो नाम नही जानता

और जब नींदों में आती हैं
तो लोरी नहीं घर की भूख सुनाती है मां
ताकि दूसरे दिन वो फ़िर ज़िंदा हो सके
नन्हें कंधों पे ज़िम्मेदारियां ढ़ो सके

2 comments:

  1. namaskar mitr,

    main bahut der se aapki kavitayen padh raha hoon .. aap bahut accha lihte hai .. man ko chooti hui bhaavnaye shabd chitr ban jaate hai .. ye kavita mujhe bahut acchi lagi , dukh ki baat to ye hai ki is desh me ab bi baal mazdoor paaye jaate hai ..

    badhai sweekar karen

    dhanywad,
    vijay

    pls read my new poem :

    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/05/blog-post_18.html

    ReplyDelete