Wednesday, June 3, 2009

महज़ एक किताब



महज़ एक किताब

तुम
जब- जब नहीं थे करीब
मेरी मनकही  के लिए
तब- तब  जन्म लेती रही कविता

आज
जब इस किताब को लोग
मेरी कविताओं का संकलन कह रहे हैं
कहती हूं इसे मैं
तुमसे दूर
एक गुलदस्ता
तुम्हारी यादों का


इसकी  एक- एक कविता
तुम्हारे बिन गुजारे
पल - पल की दास्तां है

इसे
फ़ुरसत मिले तो
 तुम भी पढ़ लेना
समझ कर
महज़ एक किताब


6 comments:

  1. विरह के पल की याद को कहतीं आप किताब।
    गुलदस्ता है याद की अच्छा दिया खिताब।।

    Note : Pls arrange to remove the word verification.

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.

    ReplyDelete
  2. तब-तब कविता जन्म लेती रही,

    वाह क्या पंक्ति इसके तो हम कायल हो गये

    ReplyDelete
  3. वाह!! अति सुन्दर!

    ReplyDelete
  4. विरह अग्नि में लिखा गया हर शब्द एक किताब की ही तरह होता है...यादों का एक आइना होता है..

    ReplyDelete